गुरु जी जींस टी-शर्ट में आएंगे, कोई रोकेगा नहीं

जागरण संवाददाता, कानपुर : जींस व टीशर्ट पहनकर डिग्री कालेजों पर आने में लगा बैन हटने पर गुरुजी फिर से एक कालेज गोइंग स्टूडेंट की तरह फैशन कर सकेंगे।
उच्च शिक्षा विभाग की रोक के बाद से उनके अरमानों पर पानी फिर गया था। पैंट शर्ट, कुर्ता पायजामा जैसे शालीन कपड़े पहनकर आने की बंदिश से छुटकारा मिलने की खबर उनके लिए किसी तोहफे से कम नहीं है। क्योंकि नया सत्र आने वाला है। ऐसे समय में पहनावा कुछ शिक्षकों का स्टेटस सिंबल होता है जो खुद को मॉडर्न लाइफ स्टाइल से जोड़कर नए सत्र का स्वागत करते हैं।
डिग्री शिक्षकों के पहनावे पर इसी महीने लगाई गई पाबंदी उच्च शिक्षा विभाग ने हटा ली है। इस संबंध में विभाग ने क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी कार्यालय को एक पत्र लिखकर इसके आदेश जारी कर दिए हैं। आदेश में शालीन कपड़े पहनकर आने का जिक्र जरूर है लेकिन जींस टीशर्ट पर रोक की बात को हटा लिया गया है। छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय समेत प्रदेश के अन्य विश्वविद्यालयों से संबद्ध डिग्री कालेजों के शिक्षकों के विरोध के बाद यह फरमान वापस लिया गया है। नए आदेश से शिक्षकों को एक बार फिर से अपने मनमुताबिक कपड़े पहनने की आजादी मिल जाएगी। शिक्षकों की भावना को ध्यान में रखते हुए नया आदेश जारी किया गया है। वहीं दूसरी ओर डिग्री शिक्षकों के पान मसाला चबाने पर लगाया गया प्रतिबंध बरकरार है। शिक्षा अधिकारी डा. अनिल कुमार मिश्रा ने बताया कि डिग्री कालेजों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने के आदेश पर कॉलेजों ने अमल शुरू कर दिया है। इसका उद्देश्य शिक्षक व कर्मचारियों के समय पर कालेज पहुंचने की मॉनीट¨रग करना है। विश्वविद्यालय से आठ सौ डिग्री कालेज संबद्ध हैं जिनमें दस लाख छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं। विश्वविद्यालय कानपुर समेत 14 जिलों के डिग्री कालेजों को समेटे हुए हैं जिनमें हजारों शिक्षक हैं।
sponsored links:
ख़बरें अब तक - 72825 प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती - Today's Headlines

No comments :

Post a Comment