शिक्षामित्र केस में अधिवक्ताओं की फाइनल ब्रीफिंग आज

   *सुप्रीम कोर्ट की प्रभावशाली पैरवी कौन कर रहा है यह आप सभी जानते है।* कुछ लोग इलाहाबाद की तरह प्रचार कर रहे हैं कि फला का फोन चला गया है। कुछ लोग प्रिंट मीडिया में जीत की खुशी भी मना रहे हैं। कुछ लोग हार मान चुके हैं। तरह-तरह की बातें सामने आ रही हैं। जबकि आप सभी जानते है।
टीम जब तक बहस चल रही हैं। आर्डर नहीं आ जाता तब तक टीम कोई खुशी नहीं जानती है. केस शिक्षामित्र ही जीतेगा.
    आज बहुत से लोग डींग मारने वाले, श्रेय लेने वाले बहुत है। जबकि केस की ABCD तक नहीं जानते, और अधिवक्ताओं को ब्रीफ भी करा देते है। ऐसे लोगों के भरोसे केस, भगवान ही मालिक है। टीम के अधिवक्ता मेरिट पर तैयारी करते हैं। तो कुछ लोग भीख मांगने के लिए अधिवक्ता खड़ा कर देते है क्योंकि शिक्षामित्र इन्हें इसीलिए फीस देता है। जिससे कोर्ट पर जो प्रभाव बहस से बना हुआ हो समाप्त किया जा सके। और शिक्षामित्रों का जिन्दगी भर खून चूसा जा सके। अभी एक पोस्ट पढ़ा "नया नौ दिन, पुराना सौ दिन" यानी जिन्दगी भर खून पियेंगे इसकी भी गारंटी है। ऐसी सोच को धन्यवाद, आखिर शिक्षामित्रों को ऐसे खून चूसने वालों से कब मुक्ति मिलेगी भगवान ही मालिक है।
   साथियों आज भी समय है विचार करें जो आपके भविष्य को  सुरक्षित कर सकता है सहयोग उसी का करें। जिसके पास केवल भाषण है। कोर्ट में भाषण काम नहीं आयेगा. न भीड़ बटोरने वाले की ताकत.
    संगठनों के पदाधिकारी बखूबी जानते हैं कि केस कौन लड़ रहा है लेकिन संगठन प्रेम छोड़ नहीं सकते। चलो कोई बात नहीं लेकिन नौकरी रहेगी तभी आप संगठन के पदाधिकारी तभी बने रहेंगे। शिक्षामित्र धीरे-धीरे जान रहा है। मान- सम्मान से बड़ा कुछ नहीं होता है। आप सभी विचार करें। टीम को सहयोग मिलेगा पैनल जरूर खड़ा होगा। टीम केस तैयारी में कोई कसर नहीं छोड़ सकती। धन्यवाद
 

संयुक्त सक्रिय टीम
     उत्तर प्रदेश
sponsored links:
ख़बरें अब तक - 72825 प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती - Today's Headlines

No comments :

Post a Comment