SUPREMECOURT UPDATE: अकादमिक भर्ती का मुद्दा दीपक मिश्रा जी की बेंच से हटकर अब गोयल जी व ललित जी की बेंच में: अब यदि निष्क्रियता दिखाई तब अंजाम बुरे हो सकते हैं

अकादमिक भर्ती का मुद्दा दीपक मिश्रा जी की बेंच से हटकर अब गोयल जी व ललित जी की बेंच में लग गया है। उक्त बेंच मुकदमे जल्द निपटाने के लिए जानी जाती है।
अकादमिक भर्तियाँ हाई कोर्ट से रद्द होकर आई हैं अतः मनोवैज्ञानिक रूप से जज के दिमाग में एक छवि रहती है, कि कहीं न कहीं हारे हुए पक्ष में कुछ कमी रही होगी,
अतः हारे हुए पक्ष को सुप्रीम कोर्ट में अतिरिक्त प्रयास करना होता है। अकादमिक मेरिट से लगभग 99 हजार लोग चयनित हैं लेकिन सहयोग देने वाले 99 भी नहीं हैं। बिना सहयोग के अतिरिक्त प्रयास तो दूर की बात है, साधारण प्रयास भी सम्भव नहीं है। यदि यह ही हाल रहा तब परिणाम बुरे हो सकते हैं। इसको चेतावनी की तरह लें। भर्ती बचाने हेतु तुरन्त उचित सहयोग करें। उचित से तात्पर्य मात्र 1000 रूपये प्रति व्यक्ति से नहीं है। इतना तो जब बेरोजगार थे तब देते थे, अब तो मोटी तनख्वाह उठा रहे हो। खुद ही समझ जाओ, ये शानोशौकत की जिंदगी यूँ ही चलती रहे इसलिये उचित सहयोग करें अन्यथा दुबारा बेरोजगारी के जीवन में पहुंचते देर न लगेगी। स्थिति अत्यधिक गम्भीर है, अब जल्द ही मुकदमा फाइनल हो जाएगा। यदि निष्क्रियता दिखाई तब अंजाम बुरे हो सकते हैं। Anil Maurya को तत्काल सहयोग करें ताकि आपका भविष्य सुरक्षित रहे।

sponsored links:
ख़बरें अब तक - 72825 प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती - Today's Headlines

No comments :

Post a Comment