बी .एड़ . टी ई टी पास अभ्यर्थी के साथ हो रहे दुर्व्यवहार को संज्ञान मॆ लेने के संबंध मॆ प्रार्थना पत्र

माननीय मुख्यमंत्री जी  ( उत्तर प्रदेश सरकार )
विषय : बी .एड़ . टी ई टी पास अभ्यर्थी के साथ हो रहे दुर्व्यवहार को संज्ञान मॆ लेने के संबंध मॆ प्रार्थना पत्र ।
महोदय ,
निवेदन है कि प्रार्थी गण जो कि बी.एड़. टी ई टी उत्रीर्ण है , आपके द्वारा मान्यता प्रदान किये गये विश्वविद्यालय से बी . ए. , बी . एससी ., बी.एड़. और टी ई टी पास किया , जो आपने दिशा निर्देश जारी किये सभी का पालन किया । आपने जो भी परीक्षा देने के लिये बोला परीक्षा दी , जो फीस माँगी फीस दी , कइयों के माँ बाप , पति ने कर्ज लेकर , ज़मीन जायदाद बेच कर फीस दी , विज्ञप्ति मॆ जो फीस माँगी दी । इसी उम्मीद से कि मेरे बेटे , बेटी और पत्नी को नौकरी मिल जयेगी तो परिवार को दो जून कि रोटी की व्यवस्था हो जायेगी , किंतु ये उनका मुँगेरी लाल का हसीन सपना साबित हुआ । अब तो किसी पार्टी की सरकार पर भरोसा नहीँ होता है । क्योंकि अब तक हम दो सरकारों द्वारा ठगे गये --
👉1 बी. एस. पी . इस सरकार को चुनाव के लिये आवश्यकता थी तो आनन फानन मॆ टी. ई.टी. का विज्ञापन जारी किया --फीस प्राथमिक 500 रुपए एवम जूनियर फीस 500 रुपए =1000 रुपए प्रति अभ्यर्थी ,
परीक्षा हुयी आनन फानन मॆ उल्टा सीधा परिणाम आ गया कई बार संशोधन हुआ । नौकरी के लिये विज्ञापन निकला अभ्यर्थियों का लगभग 20000 रूपये खर्च हो गये । चुनाव आया आचार संहिता लागू हो गयी
👉 2 स. पा. सरकार को लेपटॉप के लिये धन की आवशयकता पड़ी विज्ञापन 2012 निकाला चयन का आधार शैक्षिक योग्यता । प्रति अभ्यर्थी खर्च लगभग 42000 रूपये घर के सभी सदस्य बेंक की लाइन मॆ लगे रहे रातों मॆ वही रुकना पड़ता था ।
👉 3 उसके बाद सिलसिला कोर्ट कचहरी का शुरू हुआ जिस पर अमूमन सभी को भरोसा होता है पर वाह रे हमारे देश की न्याय व्यवस्था 5 वर्ष बीत गये अभ्यर्थियों के परिजनों द्वारा लिया गया कर्ज तिगुना चौगुना हो गया कईयों ने आत्म हत्या तक कर ली न तो सरकार को नज़र आया और न ही मिडिया की नज़र पड़ी । मीडिया की नज़र वहाँ पड़ती है जहाँ कूछ मिलने की उम्मीद होती है । टी.ई.टी.बेरोजगार के पास देने को कूछ था नहीँ लिहाजा मीडिया ने नाता तोड़ लिया । अपात्रौ को पात्र बनाने के लिये सरकार , मीडिया और स्वयं NCERT सभी एड़ी चोटी का जोर लगाने लगे। याची बनाने का सिलसिला शुरू हुआ , अब अभ्यर्थी अपनो का ही शिकार बने । कितने लीडर याची बनाने मॆ जुट गये ।एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा कर चंदा बसूला जाने लगा तारीखों का दौर शुरू हुआ हप्ते दस दिन मॆ तारीखे लगी अब नहीँ तो अब फैसला आयेगा लेकिन इंतजार करते हुये पूरे पाँच साल बीत गये फ़िर चुनाव आये,फ़िर वादे किये गये फ़िर बेवकूफ बनाया सर कार बदली चेहरा बदला।नहीँ बदला तो सिर्फ बी. एड़.टी.ई.टी.पास अभ्यर्थियों का समय 😂अब न तो हँसते बनता है न रोते ,😥। न जीते बनता है न मरते ।हमारे साथ इंसाफ करो । हमे नियुक्ति देकर जीवन दो , या मौत की सजा दो ।
sponsored links:
ख़बरें अब तक - 72825 प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती - Today's Headlines

No comments :

Post a Comment

Big Breaking

Breaking News This week