प्राइमरी स्कूलों में भी खुलेगी बीएड करने वालों की राह

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली: स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने में जुटी सरकार ने प्राइमरी स्कूलों में शिक्षकों की होने वाली भर्ती में बड़ा बदलाव किया है।
इसके तहत बीएड करने वाले भी अब इन स्कूलों में पढ़ा सकेंगे। हालांकि इन्हें भर्ती के दो साल के भीतर छह महीने का एक ब्रिज कोर्स करना अनिवार्य होगा। अभी तक एक से पांचवी तक के प्राइमरी स्कूलों में सिर्फ डिप्लोमा करने वाले ही पढ़ा सकते हैं। हालांकि इस बदलाव को लेकर विरोध भी शुरू हो गया है। डिप्लोमाधारी छात्रों ने इसे लेकर नाखुशी जताई है। 1नेशनल काउंसिल आफ टीचर्स एजुकेशन (एनसीटीई) ने नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया है। इसके तहत एनसीटीई ने एक से पांचवीं तक के प्राइमरी स्कूलों के लिए शिक्षकों की जो नई योग्यता तय की है, उसके तहत डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजुकेशन (डीएलएड) या उसके समकक्ष होना चाहिए या फिर स्नातक में पचास फीसद अंक के साथ बीएड होना चाहिए। एनसीटीई का मानना है कि इससे प्राइमरी स्कूलों को अच्छे शिक्षक मिल सकेंगे। साथ ही इससे पढ़ाई के स्तर में भी सुधार दिखेगा।

No comments :

Post a Comment

Big Breaking

Popular Posts